– चिन्तन मुद्रा, जिनकी नहीं हो, क्यों, वह दोष है|